खेलबिहार न्यूज़

पटना 18 अक्टूबर: बिहार क्रिकेट को लेकर बड़ी ख़बर क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ बिहार के सचिव आदित्य वर्मा ने खेलबिहार को दी है तथा यह भी बताया है बीसीसीआई के एपेक्स कॉसिंल की बैठक में बीसीए विवाद पर क्या निर्णय लिया गया ।

सीएबी के सचिव आदित्य वर्मा ने कहा कि आपसी विवाद के कारण बीसीसीआई ने पैसा तो पहले से ही बंद कर रखा था सबसे महत्वपूर्ण घटना कल की बैठक मे यह रहा कि बैठक मे शामिल एक पदाधिकारी ने अपने नाम को नही उजागर करने के शर्त पर हमे बताया कि बीसीसीआई के अध्यक्ष ने बिहार क्रिकेट संघ के पदाधिकारीयों के आपसी झगड़े से काफी नाराज थे ।

जिस प्रकार थोक के भाव मे बिहार क्रिकेट के बारे मे रोजाना मेल जा रहा है बिहार के जूनियर सिनियर पुरूष महिला खिलाड़ियों के टीए डीए मैच फी का भुगतान नही किया गया है आपसी विवाद के कारण बैंक ने खाता संचालन पर भी रोक लगा के बीसीसीआई को सुचित कर दिया था ।

माननीय सुप्रीम कोर्ट के आदेश के आलोक मे बीसीए का संविधान भी अभी तक संशोधित नही हुआ है । यह सत्य है कि बीसीसीआई किसी राज्य क्रिकेट संघ के आपसी झगड़े मे दखल नही देता है लेकिन बिहार के क्रिकेटरो के हित को देखते हुए कल के बीसीसीआई के ऐपेकस काउंसिल के बैठक मे सर्वसम्मति से यह निर्णय लिया गया है कि बीसीसीआई बिहार मे बीसीसीआई अपना ऑबजरवर भेज कर वर्तमान स्थिति को देख कर, मैदान को देख कर एक ग्राउंड रिपोर्ट तैयार कर बीसीसीआई के अध्यक्ष, सचिव एवं कोषाध्यक्ष को देगी ।।

फिर ये लोग बीसीसीआई की ओर से एक संचालन समिति का गठन करेगें जो बिहार क्रिकेट को राजस्थान क्रिकेट के तर्ज पर चलाएगें। सीएबी के सचिव आदित्य वर्मा एवं अन्य पदाधिकारीयों अरशद जैन, जुलफी शैम, आलमगीर आलम, संजय कुमार, मुकेश प्रिंस, जफर, सत्य प्रकाश, रिषी पान, नीरज वर्मा तथा बिहार क्रिकेट के अनेक समर्थक लोगो ने बिहारी क्रिकेटरो के भलाई के लिए बीसीसीआई के अध्यक्ष, सचिव, कोषाध्यक्ष एवं एपेकस काउंसिल के सदस्यों को उनके द्वारा कल के बैठक मे लिए गए फैसले का स्वागत किया है ।।

उम्मीद जताया है कि बीसीसीआई के अध्यक्ष सौरभ दादा जो खुद ही एक बड़े क्रिकेटर थे उनके देख रेख मे बिहार क्रिकेट भी आसमान के बुलंदी को छुएगा । मै पहले से कह रहा हूँ कि दादा है तो कुछ भी नामुमकिन नही है ।।अब देखना है कि बीसीसीआई के तरफ से ऑबजरवर कब बिहार आते है और क्या रिपोर्ट तैयार होता है।।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here